सामवेदः/कौथुमीया/संहिता/ग्रामगेयः/प्रपाठकः ०७/वासिष्ठानि

विकिस्रोतः तः
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
वासिष्ठानि त्रीणि.

उदु त्ये मधुमत्तमा गिर स्तोमास ईरते ।
सत्राजितो धनसा अक्षितोतयो वाजयन्तो रथा इव ॥ २५१ ॥ ऋ. ८.३.१५