सामवेदः/कौथुमीया/संहिता/ग्रामगेयः/प्रपाठकः ०२/यद्वाहिष्ठीये(यद्वाहिष्ठं)

विकिस्रोतः तः
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यद्वाहिष्ठीये द्वे

यद्वाहिष्ठं तदग्नये बृहदर्च विभावसो ।
महिषीव त्वद्रयिस्त्वद्वाजा उदीरते ।। ८६ ।। ऋ. ५.२५.७

[सम्पाद्यताम्]

टिप्पणी

यद्वाहिष्ठीयोत्तरम्(परि त्यं ) (ऊहगानम्)