सामवेदः/कौथुमीया/संहिता/ग्रामगेयः/प्रपाठकः ०२/कार्णश्रवसम्(श्रुधि)

विकिस्रोतः तः
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
कार्णश्रवसम्

श्रुधि श्रुत्कर्ण वह्निभिर्देवैरग्ने सयावभिः ।
आ सीदतु बर्हिषि मित्रो अर्यमा प्रातर्यावभिरध्वरे ॥ ५० ॥ ऋ. १.४४.१३

[सम्पाद्यताम्]