पृष्ठम्:भोजप्रबन्धः (विद्योतिनीव्याख्योपेतः).djvu/१५६

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति
१५३
भोजप्रबन्धः


 हाउ-हाउ' शब्द करने से वहां कीए आ गये। उनमें एक कौआ बड़े जोर से कवि काँव' करने लगा। उसे सुन बूढ़े ब्राह्मण की तरुणी पत्नी जैसे डर कर ' हार को अपनी छाती पर रख चिल्ला पड़ी--'हाय मैया!' . '

 ततो ब्राह्मणः प्राह-'प्रिये साधुशीले, किमर्थं विभेषि---इतिः। सा भाह-'नाथ! मारशीनां पतिव्रतात्रीणां करध्वनिवर्णन सह्यम् । 'साधुशीले, तथा भवेदेव' इति विप्र आता

 तो ब्राह्मण वोला-'मली-भोली प्यारी, क्यों डर रही हो वह बोली- बामी, मुझ जैसी पतिव्रत्ता स्त्रियों से की शब्द सुनना सहा नहीं जाता, ह्मण ने कहा-~'हे सुचरिते, ऐसा तो होना ही रहता है।'

 ततो राजा तच्चरितं सर्वष्टा व्यचिन्तयत् हो, इयं तरुणी शीला नूनम् । यतो निजि विभेति । स्वपातिव्रत्यं स्वयमेव हतियति च । नूनमियं निर्मीका सती अत्यन्तं दारुणं कर्म रात्रौ करोस्येव । एवं निश्चित्त्य राला तत्रैव रात्रावन्तर्हित एवातिष्ठत् ।।

 तो उसका सारा आचरण देख कर राजा ने विचारा-'अरे, निश्चय ही यह तरुणी दुष्ट चरित्र की है; क्योंकि अकारण ही डर रही है और अपने पातिव्रत का स्वयम् ही कीर्तन कर रही है । निश्य ही यह निर्भय होकर रात में अत्यंत कठोर कर्म करती ही होगी।' ऐसा निश्चय करके राजा वहीं रात को छिप कर रह गया।

 अथ निशीथे भतरि सुप्ते सा मांसपेटिकां घेश्याकरण वाहयित्वा नर्मदातीरमगच्छत् । राजाप्यात्मानं गोपयित्वानुगच्छति स्म । ततः सा नर्मदां प्राप्य तत्र समागताना पाहाणां मांसं दत्त्वा नदी तीत्वों परतीरस्थेन शूलाग्रारोपितेन स्वमनोरमेण सह रमते स्म ।

 इसके बाद रात में पति के सो जाने पर वह मांस की पिटारी को एक वेश्या के हाथों कव्वाकर नर्मदा के किनारे पहुंची। अपने को छिपाये राजा ने भी उसका पीछा किया। तदनंतर वह नर्मदा में पैठी और वहाँ आये मगर- मच्छी को मांस देकर नदी पार कर दूसरे किनारे पर स्थित सूली की नोक पर चढ़ाये गये अपने मनचीत पुरुष के साथ रमण करने लगी। .