हठ योग प्रदीपिका प्रथमोपदेशः

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search

मूल पाठ[सम्पाद्यताम्]

Original Text

प्रथमोपदेशः

श्री-आदि-नाथाय नमोऽस्तु तस्मै येनोपदिष्टा हठ-योग-विद्या।
विभ्राजते प्रोन्नत-राज-योगम् आरोढुम् इच्छोर् अधिरोहिणीव॥हयो-१.१॥
प्रणम्य श्री-गुरुं नाथं स्वात्मारामेण योगिना।
केवलं राज-योगाय हठ-विद्योपदिश्यते॥हयो-१.२॥
भ्रान्त्या बहुमत-ध्वान्ते राज-योगम् अजानताम्।
हठ-प्रदीपिकां धत्ते स्वात्मारामः कृपाकरः॥हयो-१.३॥
हठ-विद्यां हि मत्स्येन्द्र-गोरक्षाद्या विजानते।
स्वात्मारामोऽथवा योगी जानीते तत्-प्रसादतः॥हयो-१.४॥
श्री-आदिनाथ-मत्स्येन्द्र-शावरानन्द-भैरवाः।
चौरङ्गी-मीन-गोरक्ष-विरूपाक्ष-बिलेशयाः॥हयो-१.५॥
मन्थानो भैरवो योगी सिद्धिर् बुद्धश् च कन्थडिः।
कोरंटकः सुरानन्दः सिद्धपादश् च चर्पटिः॥हयो-१.६॥
कानेरी पूज्यपादश् च नित्य-नाथो निरञ्जनः।
कपाली बिन्दुनाथश् च काकचण्डीश्वराह्वयः॥हयो-१.७॥
अल्लामः प्रभुदेवश् च घोडा चोली च टिंटिणिः।
भानुकी नारदेवश् च खण्डः कापालिकस् तथा॥हयो-१.८॥
इत्य् आदयो महासिद्धा हठ-योग-प्रभावतः।
खण्डयित्वा काल-दण्डं ब्रह्माण्डे विचरन्ति ते॥हयो-१.९॥
अशेष-ताप-तप्तानां समाश्रय-मठो हठः।
अशेष-योग-युक्तानाम् आधार-कमठो हठः॥हयो-१.१०॥
हठ-विद्या परं गोप्या योगिना सिद्धिम् इच्छता।
भवेद् वीर्यवती गुप्ता निर्वीर्या तु प्रकाशिता॥हयो-१.११॥
सुराज्ये धार्मिके देशे सुभिक्षे निरुपद्रवे।
धनुः प्रमाण-पर्यन्तं शिलाग्नि-जल-वर्जिते।
एकान्ते मठिका-मध्ये स्थातव्यं हठ-योगिना॥हयो-१.१२॥
अल्प-द्वारम् अरन्ध्र-गर्त-विवरं नात्युच्च-नीचायतं सम्यग्-गोमय-सान्द्र-लिप्तम् अमलं निःशेस-जन्तूज्झितम्।
बाह्ये मण्डप-वेदि-कूप-रुचिरं प्राकार-संवेष्टितं प्रोक्तं योग-मठस्य लक्षणम् इदं सिद्धैर् हठाभ्यासिभिः॥हयो-१.१३॥
एवं विधे मठे स्थित्वा सर्व-चिन्ता-विवर्जितः।
गुरूपदिष्ट-मार्गेण योगम् एव समभ्यसेत्॥हयो-१.१४॥
अत्याहारः प्रयासश् च प्रजल्पो नियमाग्रहः।
जन-सङ्गश् च लौल्यं च षड्भिर् योगो विनश्यति॥हयो-१.१५॥
उत्साहात् साहसाद् धैर्यात् तत्त्व-ज्ञानाश् च निश्चयात्।
जन-सङ्ग-परित्यागात् षड्भिर् योगः प्रसिद्ध्यति॥हयो-१.१६॥

अथ यम-नियमाः

अहिंसा सत्यम् अस्तेयं ब्रह्मचर्यं क्षमा धृतिः।
दयार्जवं मिताहारः शौचं चैव यमा दश॥हयो-१.१७॥
तपः सन्तोष आस्तिक्यं दानम् ईश्वर-पूजनम्।
सिद्धान्त-वाक्य-श्रवणं ह्रीमती च ज​पो हुतम्।
नियमा दश सम्प्रोक्ता योग-शास्त्र-विशारदैः॥हयो-१.१८॥

अथ आसनम्

हठस्य प्रथमाङ्गत्वाद् आसनं पूर्वम् उच्यते।
कुर्यात् तद् आसनं स्थैर्यम् आरोग्यं चाङ्ग-लाघवम्॥हयो-१.१९॥
वशिष्ठाद्यैश् च मुनिभिर् मत्स्येन्द्राद्यैश् च योगिभिः।
अङ्गीकृतान्य् आसनानि कथ्यन्ते कानिचिन् मया॥हयो-१.२०॥
जानूर्वोर् अन्तरे सम्यक् कृत्वा पाद-तले उभे।
ऋजु-कायः समासीनः स्वस्तिकं तत् प्रचक्षते॥हयो-१.२१॥
सव्ये दक्षिण-गुल्फं तु पृष्ठ-पार्श्वे नियोजयेत्।
दक्षिणेऽपि तथा सव्यं गोमुखं गोमुखाकृतिः॥हयो-१.२२॥
एकं पादं तथैकस्मिन् विन्यसेद् उरुणि स्थिरम्।
इतरस्मिंस् तथा चोरुं वीरासनम् इतीरितम्॥हयो-१.२३॥
गुदं निरुध्य गुल्फाभ्यां व्युत्क्रमेण समाहितः।
कूर्मासनं भवेद् एतद् इति योग-विदो विदुः॥हयो-१.२४॥
पद्मासनं तु संस्थाप्य जानूर्वोर् अन्तरे करौ।
निवेश्य भूमौ संस्थाप्य व्योमस्थं कुक्कुटासनम्॥हयो-१.२५॥
कुक्कुटासन-बन्ध-स्थो दोर्भ्यां सम्बद्य कन्धराम्।
भवेद् कूर्मवद् उत्तान एतद् उत्तान-कूर्मकम्॥हयो-१.२६॥
पादाङ्गुष्ठौ तु पाणिभ्यां गृहीत्वा श्रवणावधि।
धनुर् आकर्षणं कुर्याद् धनुर्-आसनम् उच्यते॥हयो-१.२७॥
वामोरु-मूलार्पित-दक्ष-पादं जानोर् बहिर् वेष्टित-वाम-पादम्।
प्रगृह्य तिष्ठेत् परिवर्तिताङ्गः श्री-मत्य्सनाथोदितम् आसनं स्यात्॥हयो-१.२८॥
मत्स्येन्द्र-पीठं जठर-प्रदीप्तिं प्रचण्ड-रुग् मण्डल-खण्डनास्त्रम्।
अभ्यासतः कुण्डलिनी-प्रबोधं चन्द्र-स्थिरत्वं च ददाति पुंसाम्॥हयो-१.२९॥
प्रसार्य पादौ भुवि दण्ड-रूपौ दोर्भ्यां पदाग्र-द्वितयं गृहीत्वा।
जानूपरिन्यस्त-ललाट-देशो वसेद् इदं पश्चिमतानम् आहुः॥हयो-१.३०॥
इति पश्चिमतानम् आसनाग्र्यं पवनं पश्चिम-वाहिनं करोति।
उदयं जठरानलस्य कुर्याद् उदरे कार्श्यम् अरोगतां च पुंसाम्॥हयो-१.३१॥
धराम् अवष्टभ्य कर-द्वयेन तत्-कूर्पर-स्थापित-नाभि-पार्श्वः।
उच्चासनो दण्डवद् उत्थितः खे मायूरम् एतत् प्रवदन्ति पीठम्॥हयो-१.३२॥
हरति सकल-रोगान् आशु गुल्मोदरादीन् अभिभवति च दोषान् आसनं श्री-मयूरम्।
बहु कदशन-भुक्तं भस्म कुर्याद् अशेषं जनयति जठराग्निं जारयेत् काल-कूटम्॥हयो-१.३३॥
उत्तानं शबवद् भूमौ शयनं तच् छवासनम्।
शवासनं श्रान्ति-हरं चित्त-विश्रान्ति-कारकम्॥हयो-१.३४॥
चतुरशीत्य् आसनानि शिवेन कथितानि च।
तेभ्यश् चतुष्कम् आदाय सारभूतं ब्रवीम्य् अहम्॥हयो-१.३५॥
सिद्धं पद्मं तथा सिंहं भद्रं चेति चतुष्टयम्।
श्रेष्ठं तत्रापि च सुखे तिष्ठेत् सिद्धासने सदा॥हयो-१.३६॥

अथ सिद्धासनम्- योनि-स्थानकम् अङ्घ्रि-मूल-घटितं कृत्वा दृढं विन्यसेत् मेण्ढ्रे पादम् अथैकम् एव हृदये कृत्वा हनुं सुस्थिरम्।
स्थाणुः संयमितेन्द्रियोऽचल-दृशा पश्येद् भ्रुवोर् अन्तरं ह्य् एतन् मोक्ष-कपाट-भेद-जनकं सिद्धासनं प्रोच्यते॥हयो-१.३७॥

मेण्ढ्राद् उपरि विन्यस्य सव्यं गुल्फं तथोपरि।
गुल्फान्तरं च निक्षिप्य सिद्धासनम् इदं भवेत्॥हयो-१.३८॥
एतत् सिद्धासनं प्राहुर् अन्ये वज्रासनं विदुः।
मुक्तासनं वदन्त्य् एके प्राहुर् गुप्तासनं परे॥हयो-१.३९॥
यमेष्व् इव मिताहारम् अहिंसा नियमेष्व् इव।
मुख्यं सर्वासनेष्व् एकं सिद्धाः सिद्धासनं विदुः॥हयो-१.४०॥
चतुरशीति-पीठेषु सिद्धम् एव सदाभ्यसेत्।
द्वासप्तति-सहस्राणां नाडीनां मल-शोधनम्॥हयो-१.४१॥
आत्म-ध्यायी मिताहारी यावद् द्वादश-वत्सरम्।
सदा सिद्धासनाभ्यासाद् योगी निष्पत्तिम् आप्नुयात्॥हयो-१.४२॥
किम् अन्यैर् बहुभिः पीठैः सिद्धे सिद्धासने सति।
प्राणानिले सावधाने बद्धे केवल-कुम्भके।
उत्पद्यते निरायासात् स्वयम् एवोन्मनी कला॥हयो-१.४३॥
तथैकास्मिन्न् एव दृढे सिद्धे सिद्धासने सति।
बन्ध-त्रयम् अनायासात् स्वयम् एवोपजायते॥हयो-१.४४॥
नासनं सिद्ध-सदृशं न कुम्भः केवलोपमः।
न खेचरी-समा मुद्रा न नाद-सदृशो लयः॥हयो-१.४५॥

अथ पद्मासनम्- वामोरूपरि दक्षिणं च चरणं संस्थाप्य वामं तथा दक्षोरूपरि पश्चिमेन विधिना धृत्वा कराभ्यां दृढम्।
अङ्गुष्ठौ हृदये निधाय चिबुकं नासाग्रम् आलोकयेत् एतद् व्याधि-विनाश-कारि यमिनां पद्मासनं प्रोच्यते॥हयो-१.४६॥

उत्तानौ चरणौ कृत्वा ऊरु-संस्थौ प्रयत्नतः।
ऊरु-मध्ये तथोत्तानौ पाणी कृत्वा ततो दृशौ॥हयो-१.४७॥
नासाग्रे विन्यसेद् राजद्-अन्त-मूले तु जिह्वया।
उत्तम्भ्य चिबुकं वक्षस्य् उत्थाप्य् पवनं शनैः॥हयो-१.४८॥
इदं पद्मासनं प्रोक्तं सर्व-व्याधि-विनाशनम्।
दुर्लभं येन केनापि धीमता लभ्यते भुवि॥हयो-१.४९॥

कृत्वा सम्पुटितौ करौ दृढतरं बद्ध्वा तु पद्मासनं गाढं वक्षसि सन्निधाय चिबुकं ध्यायंश् च तच् चेतसि।
वारं वारम् अपानम् ऊर्ध्वम् अनिलं प्रोत्सारयन् पूरितं न्यञ्चन् प्राणम् उपैति बोधम् अतुलं शक्ति-प्रभावान् नरः॥हयो-१.५०॥

पद्मासने स्थितो योगी नाडी-द्वारेण पूरितम्।
मारुतं धारयेद् यस् तु स मुक्तो नात्र संशयः॥हयो-१.५१॥

अथ सिंहासनम्- गुल्फौ च वृषणस्याधः सीवन्याः पार्श्वयोः क्षिपेत्।
दक्षिणे सव्य-गुल्फं तु दक्ष-गुल्फं तु सव्यके॥हयो-१.५२॥
हस्तौ तु जान्वोः संस्थाप्य स्वाङ्गुलीः सम्प्रसार्य च।
व्यात्त-वक्त्रो निरीक्षेत नासाग्रं सुसमाहितः॥हयो-१.५३॥
सिंहासनं भवेद् एतत् पूजितं योगि-पुङ्गवैः।
बन्ध-त्रितय-सन्धानं कुरुते चासनोत्तमम्॥हयो-१.५४॥

अथ भद्रासनम्- गुल्फौ च वृषणस्याधः सीवन्याः पार्श्वयोः क्षिप्ते।
सव्य-गुल्फं तथा सव्ये दक्ष-गुल्फं तु दक्षिणे॥हयो-१.५५॥
पार्श्व-पादौ च पाणिभ्यां दृढं बद्ध्वा सुनिश्चलम्।
भद्रासनं भवेद् एतत् सर्व-व्याधि-विनाशनम्।
गोरक्षासनम् इत्य् आहुर् इदं वै सिद्ध-योगिनः॥हयो-१.५६॥

एवम् आसन-बन्धेषु योगीन्द्रो विगत-श्रमः।
अभ्यसेन् नाडिका-शुद्धिं मुद्रादि-पवनी-क्रियाम्॥हयो-१.५७॥
आसनं कुम्भकं चित्रं मुद्राख्यं करणं तथा।
अथ नादानुसन्धानम् अभ्यासानुक्रमो हठे॥हयो-१.५८॥
ब्रह्मचारी मिताहारी त्यागी योग-परायणः।
अब्दाद् ऊर्ध्वं भवेत् सिद्धो नात्र कार्या विचारणा॥हयो-१.५९॥
सुस्निग्ध-मधुराहारश् चतुर्थांश-विवर्जितः।
भुज्यते शिव-सम्प्रीत्यै मिताहारः स उच्यते॥हयो-१.६०॥

कट्वाम्ल-तीक्ष्ण-लवणोष्ण-हरीत-शाक- सौवीर-तैल-तिल-सर्षप-मद्य-मत्स्यान्।
आजादि-मांस-दधि-तक्र-कुलत्थकोल- पिण्याक-हिङ्गु-लशुनाद्यम् अपथ्यम् आहुः॥हयो-१.६१॥

भोजनम् अहितं विद्यात् पुनर् अस्योष्णी-कृतं रूक्षम्।
अतिलवणम् अम्ल-युक्तं कदशन-शाकोत्कं वर्ज्यम्॥हयो-१.६२॥
वह्नि-स्त्री-पथि-सेवानाम् आदौ वर्जनम् आचरेत्॥हयो-१.६३॥
तथा हि गोरक्ष-वचनम्- वर्जयेद् दुर्जन-प्रान्तं वह्नि-स्त्री-पथि-सेवनम्।
प्रातः-स्नानोपवासादि काय-क्लेश-विधिं तथा॥हयो-१.६४॥

गोधूम-शालि-यव-षाष्टिक-शोभनान्नं क्षीराज्य-खण्ड-नवनीत-सिद्धा-मधूनि।
शुण्ठी-पटोल-कफलादिक-पञ्च-शाकं मुद्गादि-दिव्यम् उदकं च यमीन्द्र-पथ्यम्॥हयो-१.६५॥

पुष्टं सुमधुरं स्निग्धं गव्यं धातु-प्रपोषणम्।
मनोभिलषितं योग्यं योगी भोजनम् आचरेत्॥हयो-१.६६॥
युवो वृद्धोऽतिवृद्धो वा व्याधितो दुर्बलोऽपि वा।
अभ्यासात् सिद्धिम् आप्नोति सर्व-योगेष्व् अतन्द्रितः॥हयो-१.६७॥
क्रिया-युक्तस्य सिद्धिः स्याद् अक्रियस्य कथं भवेत्।
न शास्त्र-पाठ-मात्रेण योग-सिद्धिः प्रजायते॥हयो-१.६८॥
न वेष-धारणं सिद्धेः कारणं न च तत्-कथा।
क्रियैव कारणं सिद्धेः सत्यम् एतन् न संशयः॥हयो-१.६९॥
पीठानि कुम्भकाश् चित्रा दिव्यानि करणानि च।
सर्वाण्य् अपि हठाभ्यासे राज-योग-फलावधि॥हयो-१.७०॥

इति हठ-प्रदीपिकायां प्रथमोपदेशः

हिन्दी अनुवाद[सम्पाद्यताम्]

Hindi Translation

पंकज चन्द गुप्ता के शब्दों में।

On āsanas[सम्पाद्यताम्]

  1. भगवान शिव जी को प्रणाम है, जिन्होंने सबसे पहले हठ योग का ज्ञान इस संसार को दिया । यह ज्ञान एक सीढी के समान है, जो एक साधक को राज योग की ऊँचाई तक पहुँचा देता है ।
  2. योगी स्वात्माराम अपने गुरु श्रीनाथ को प्रणाम कर राज योग की प्राप्ति हेतु हठ योग के बारे में बताते हैं ।
  3. राज योग के बारे में बहुत से मत भेद होने के कारण जो अज्ञान रूपी अन्धकार फैला हुआ है, जिसके कारण समान्य जान राज योग के सही सही जान नहीं पा रहे हैं । उन पर कृपा कर स्वात्माराम जी हठ योग प्रदीपिका रूपी रौशनी से इस अन्धकार को मिटाते हैं ।
  4. मत्स्येन्द्र, गोरक्ष आदि सब हठ योग के ज्ञाता थे, और उन की कृपा से स्वात्माराम जी ने भी उनसे इसे सीखा ।
  5. पूर्व काम में ये सिद्ध महात्मा हुये हैं – श्री आदिनाथ जी, मत्स्येन्द्र, नाथ, साबर, अनन्द, भैरव, चौरन्गी, मिन नाथ, गोरक्ष नाथ, विरूपाक्ष, बीलेसय, मन्थन, भैरव, सिद्धि बुद्धै कान्ठादि, करन्तक, सुरानन्द, सिद्धिपाद, चरपति, कानेरि, पिज्यपाद, नात्यनाथ, निरन्जन, कपालि, विन्दुनाथ, काक चन्डीश्वर, अल्लामा, प्रभुदेव, घोदा, चोलि, तितिनि, भानुकि आदि ।
  6. ये महासिद्ध महर्षि, मृत्यु को जीत कर अमृत्व को प्राप्त हुये हैं ।
  7. जैसे घर मनुष्य की धूप से रक्षा करता है, उसी प्रकार हठ योग एक योगी की तीनों प्रकार के तपों की गरमी से रक्षा करता है । जो सदा योग में लगें हैं, यह हठ योग उन के लिये वैसे ही सहारा देता है जैसे सागर मन्थन में भगवान नें कछुये के रूप से पर्वत को सहारा दिया था ।
  8. योगी को हठ योग के ज्ञान को छुपा कर रखना चाहिये, क्योंकि यह गुप्त होने से अधिक सिद्ध होता है और दिखाने से इस की हानि होती है ।
  9. योगी को हठ योग एक शान्त कमरे में, जहां पत्थर, अग्नि, जल आदि से कोई हलचल न हो, वहां स्थित हो कर करना चाहिये और ऐसी जगह रहना चाहिये जहां अच्छे लोग रहते हैं, तथा खाने की बहुलता हो, आसानी से प्राप्त हो ।
  10. कमरे में छोटा दरवाजा हो, कोई सुराख आदि न हों । न वह ज्यादा उँचा हो, न बहुत नीचा, गोबर से अच्छी तरह लिपा हो, और गन्दगी, कीडों आदि से मुक्त हो । उस के बाहर चबूतरा हो और आँगन आदि हो । हठ योग करने के स्थान में ऐसी खूबीयाँ हों तो अच्छा है, यह इस योग में सिद्ध महर्षियों ने कहा है ।
  11. इस स्थान में बैठ कर, और सभी प्रकार के मानसिक उद्वेगों से मुक्त होकर साधक को योग साधना करनी चाहिये ।
  12. योग इन छे कारणों से नष्ट हो जाता है – बहुत खाना, बहुत परिश्रम, बहुत बोलना, गलत नियमों का पालन जैसे बहुत सुबह ठंडे पानी से नहाना या देर रात को खाना या केवल फल खाना आदि, मनुष्यों का अत्याधिक संग, औऱ छटा (योग में) अस्थिरता ।
  13. इन छे से सफलता शिघ्र ही प्राप्त होती है – हिम्मत, नीडरता, लगे रहना, ध्यान देना, विश्वास, और संगती से दूर रहना ।
  14. इन दस आचरणों का पालन करना चाहिये – अहिंसा (किसी भी प्राणी की हिंसा न करना), सत्य बोलना, चोरी न करना, संयम, क्षमा, सहनशीलता, करुणा, अभिमान हीनता – दैन्य भाव, कम खाना और सफाई ।
  15. योग के ज्ञाता जन यह दस नियम बताते हैं – तप, धैर्य रखना, भगवान में विश्वास, दान देना, भगवान का ध्यान करना, धर्म संवाद सुनना (पढना), शर्म, बुद्धि का प्रयोग, तपस्य करना और यज्ञ करना ।

Asanas[सम्पाद्यताम्]

  1. आसन हठ योग की सबसे पहली शाखा है, इसलिये सबसे पहले उस का वर्णन करते हैं । इसका अभ्यास स्थिर काया, निरोगता और शरीर का हलकापन पाने के लिये करना चाहिये ।
  2. मैं कुछ आसनों का वर्णन करता हूँ जिन्हें वौशिष्ठ जैसे मुनियों और मत्स्येन्द्र जैसे योगियों ने अपनाया है ।

Swastika-āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. अपने दोनो हाथों को अपने पट्टों के नीचे रख कर, अपने शरीर को सीधा रख, जब मनुष्य शान्ती से बैठता है तो उसे स्वतिक कहते हैं ।

Gomukha-āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. जब अपने दायने ankle(ऎडी) को अपने बायें ओर और अपने बायें ankle (ऎडी) को अपने दायें ओर रखा जाये, जो गायें के मूँह जैसा दिखता है, उसे गोमुख आसन कहते हैं ।

Virāsana[सम्पाद्यताम्]

  1. एक पैर को दूसरे पट्ट पर रखा जाये और दूसरे पैर को इस पट्ट पर रखा जाये, इसे वीरासन कहते हैं ।

Kurmāsana[सम्पाद्यताम्]

  1. अपनी दायें ankle को anus के बायें ओर और बायें ankle को anus के दायें ओर रखा जाये, उस आसन को योगी कुर्मासन कहते हैं ।

Kukkuta āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. पदमासन में बैठ कर, फिर हाथों के पट्टों के नीचे रख कर, जब योगी अपने आप को जमीन से उठाता है, हाथों के तलवों को धरती पर टिकाये हुये, तो उसे कुक्कुट आसन कहते हैं ।

Utāna Kurma-āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. कुक्कुट आसन में बैठ कर, अपनी गरदन या सिर को पीछे से पकड कर, अगर जमीन पर पीठ लगा कर लेटा जाये, तो उसे उतान कुर्मासन कहते हैं, क्योंकि यह दिखने में कछुये जैसा लगता है ।

Dhanura āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. दोनो हाथों से अपने पैरों के अगले भाग (उंगलीयों) को पकड कर, उन्हें (पैरों को) अपने कानो तक ले जाना, जैसे कोई धनुष खींच रहें हों, उसे धनुर आसन कहा जाता है ।

Matsya-āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. अपने पैर को अपने पट्ट (thigh) पर रख कर, अपने हाथ को पीठ की तरफ से ले जा कर उसे पकडना – जैसे दायने पैर को बायें पट्ट पर रख कर, अपने दायने हाथ को पीठ की तरफ से ले जा कर अपने दायने पैर को पकडना, और वैसे ही दूसरे पैर और हाथ से करना – इस आसन को मत्स्य आसन कहते हैं, और इसका वर्णन श्री मत्स्यानाथ जी ने किया था । इस से भूख बढती है, और यह बहुत सी भयानक बिमारियों से रक्षा में सहायक सिद्ध होता है । इस के अभ्यास से कुण्डली जागती है और यह मनुष्य के चन्द्रबिंदू से अमृत छटना रोकता है (इस विष्य में बाद में और बताया गया है) ।

Paschima Tāna[सम्पाद्यताम्]

  1. पैरों को जमीन पर सीधा कर के (साथ साथ लंबे रख करे), जब दोनो हाथों से पैरों की उँगलीयाँ पकडी जायें और सिर को पट्टों पर रखा जाये, तो उसे पश्चिम तन आसन कहते हैं । इस आसन से शरीर के अन्दर की हवा आगे से शरीर के पीछे के भाग की तरफ जाती है । इस से gastric fire को बढावा मिलता है, मोटापा कम होता है और मनुष्य की सभी बिमारियां ठीक होती हैं । (यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है)

Mayura-āsana[सम्पाद्यताम्]

  1. हाथों के तलवों को जमीन पर रखें और अपनी elbows को साथ साथ लायें । फिर पेट की धुन्नि (navel) को अपनी elbows के ऊपर रखें और इस प्रकार अपने भार को हाथों (elbows) पर टिकाते हुये, शरीर को डंडे के समान सीधा करें । इसे म्यूर आसन कहते हैं ।
  2. इस आसन से जल्द ही सभी बिमारियां नष्ट हो जाती हैं, पेट के रोग मिट जाते हैं, और बलगम, bile, हवा आदि के विकारों को दूर करता है, भूख बढाता है और खतरनाख जहर का अन्त करता है ।

Sava-âsana[सम्पाद्यताम्]

  1. धरती पर मृत के समान लंबा लेटना, इसे शव आसन कहा जाता है । इस से थकावट दूर होती है और मन को आराम मिलता है ।
  2. इस प्रकार भगवान शिवजी नें 84 मुख्य आसन बताये हैं । लेकिन उन में से पहले चार सबसे जरूरी हैं । यहां मैं उन का वर्णन करता हूँ ।
  3. ये चार हैं – सिद्धासन, पद्मासन, सिंहासन और भद्रासन । इन में से भी सिद्धासन बहुत सुखदायी है – इसका सदा अभ्यास करना चाहिये ।

The Siddhâsana[सम्पाद्यताम्]

  1. अपने दायें पैर की एडी को अपने perineum (लिंग के नीचे की हड्डी) के साथ अच्छे से लगायें, और अपने दूसरी ऐडी को अपने लिंग के उपर रखें । अपनी ठोडी (chin) को अपनी छाती से लगायें और शान्ति से बैठें । अपनी इन्द्रियों को संयम कर, अपने माथे के बिच (eyebrows) की तरफ एक टक देखें । इसे सिद्धासन कहा जाता है – जो मुक्ति का द्वार खोलता है ।
  2. इसे अपने दायने पैर को अपने लिंग (penis) के उपर और बायें को उसके साथ रख कर भी किया जा सकता है ।
  3. कुछ लोग इसे सिद्धासन कहते हैं, कुछ वज्रासन भी कहते हैं । दूसरे कुछ लोग इसे मुक्तासन या गुप्तासन भी कहते हैं ।
  4. जैसे कम खाना यमों में पहला यम है, और जैसे अहिंसा (किसी भी प्राणी की हिंसा न करना) पहला नियम है, उसी प्रकार ऋषियों ने सिद्धासन को सभी आसनों में प्रमुख बताया है ।
  5. 84 आसनों में सिद्धासन का सदा अभ्यास करना चाहिये क्योंकि यह 72000 नाडियों को शुद्ध करता है ।
  6. स्वयं पर ध्यान करते हुये, कम खाते हुये, और सिद्धासन का बारह वर्ष तक अभ्यास कर योगी सफलता प्राप्त कर लेता है ।
  7. जब सिद्धासन में सफलता प्राप्त हो चुकी हो, और केवल-कुम्भक द्वारा प्राण वायु शान्त और नियमित हो चुकी हो, तो दूसरे किसी आसन की कोई आवश्यकता नहीं है ।
  8. केवल सिद्धासन में ही अच्छी तरह स्थिर हो जाने से मनुष्य को उन्मनी प्राप्त हो जाती है और तीनो बंध भी स्वयं ही पूर्ण हो जाते हैं ।
  9. सिद्धासन जैसा कोई आसन नहीं है, और ‘केवल’ जैसा कोई कुम्भक नहीं है । केचरी जैसी कोई मुद्रा नहीं है, और नाद (अनहत नाद) जैसी कोई लय नहीं है ।

Padmâsana[सम्पाद्यताम्]

  1. अपने दायें पैर को अपने बायें पट्ट पर रख कर, और बायें पैर को अपने दायें पट्ट पर रख कर, अपने हाथों को पीछे से ले जाकर पैरों की उंगलीयों को पकड कर बैठना । फिर अपनी ठोडी को छाती से लगाना और अपने नाक के अगले भाग की तरफ देखना । इसे पद्मासन कहा जाता है, यह साधक की बिमारियों का नाशक है ।
  2. अपने पैरों को पट्टों पर रख कर, पैरों के तलवे ऊपर की ओर, और हाथों को पट्टों पर रख कर, हाथों के तलवो भी ऊपर की ओर ।
  3. नाक के अगले भाग की तरफ देखते हुये, अपनी जीभ को ऊपर के दाँतों की जड पर टीका कर, और ठोडी को छाती के साथ लगाते हुये, धीरे से हवा को ऊपर की ओर खींच कर ।
  4. इसे पद्मासन कहा जाता है, यह सभी बिमारियों का नाशक है । यह सब के लिये प्राप्त करना कठिन है, लेकिन समझदार लोग इसे सीख सकते हैं ।
  5. दोनो हाथों को अपनी गोदी में साथ साथ रख कर, पद्मासन करते हुये, अपनी ठोडी को छाती से लगा कर, और भगवान पर ध्यान करते, अपनी अपान वायु को ऊपर का तरफ खीचते, और फिर साँस लेने के बाद नीचे को धकेलते – इस प्रकार प्राण और अपान को पेट में मिलाते, योगी परम बुद्धि को प्राप्त करता है शक्ति के जागने के कारण ।
  6. जो योगी, इस प्रकार पद्मासन में बैठे, अपनी साँस पर काबू पा लेता है, वह बंधन मुक्त है, इस में कोई शक नहीं है ।

The Simhâsana[सम्पाद्यताम्]

  1. दोनो ऐडीयों को अपने लिंग के नीचे वाली हड्डी से लगा कर ।
  2. अपने हाथों को अपने पट्टों पर रख कर, अपने मूँह को खुला रख कर, और अपने मन को संयमित कर, नाक के आगे वाले भाग की तरफ देखते हुये ।
  3. यह सिंहासन है, जिसे महान योगी पवित्र मानते हैं । यह आसन तीन बंधों की पूर्ति में सहायक होता है ।

The Bhandrâsana[सम्पाद्यताम्]

  1. दोनो ऐडीयों को अपने लिंग के नीचे वाली हड्डि से लगा कर (keeping the left heel on the left side and the right one on the right side), पैरों को हाथों से पकड कर एक दूसरे से अच्छे से जोड कर बैठना । इसे भद्रासन कहा जाता है । इस से भी सभी बिमारियों का अन्त होता है ।
  2. योग ज्ञाता इसे गोरक्षासन कहते हैं । इस आसन में बैठने से थकावट दूर होती है ।
  3. यह आसनों का वर्णन था । नाडियों को मुद्राओं, आसनों, कुम्भक आदि द्वारा शुद्ध करना चाहिये ।
  4. नाद पर बारीकी से ध्यान देने से, ब्रह्मचारी, कम खाता और अपनी इन्द्रियों को नियमित करता, योग का पालन करता हुआ सफलता को एक ही साल में प्राप्त कर लेता है – इस में कोई शक नहीं ।
  5. सही खाना वह है, जिस में अच्छे से पके, घी और शक्कर वाले खाने से, भगवान शिव को अर्पित करने के पश्चात खाकर ¾ भूख ही मिटाई जाये ।

Foods injurious to a Yogi or Yogini[सम्पाद्यताम्]

  1. कडवी, खट्टी, नमकीन, सडी, तेल से भरी, दारू युक्त, मछली, मास, दहियां, पयाज, लसन आदि नहीं खाना चाहिये ।
  2. फिर से गरम किया खाना, सूखा, बहुत ज्यादा नमकीन, खट्टा, या ऐसी सबजियाँ जो जलन करती हैं नहीं खानी चाहिये । अग्नि, औरतें, सफर आदि से टलना चाहिये ।
  3. जैसा की गोरक्ष नें कहा है, योगी को बुरे लोगों के संग से, आग, औरतें, सफर, बहुत सुबह नहाना, निरन्न रहना और अत्याधिक शारीरिक परिश्रम से टलना चाहिये ।
  4. कनक, चावल, मक्कि, दूध, घी, शक्कर, मक्खन, शहद, अदरक, परवल, पाँच सबजियाँ, मूँग दाल, शुद्ध पानी – यह सब योगाभ्यास करने वाले के लिये बहुत लाभ दायक हैं ।
  5. योगी को ताकत देने वाले पदार्थ खाने चाहिये, अच्छे से मीठे किये, घी डाले, दूध, मक्खन आदि जिन से शरीर की शक्ति बढे ।
  6. चाहे कोई जवान हो, बूढा या बहुत बूढा हो, बिमार या पतला हो, जो कोई भी आलस त्याग कर योग का अभ्यास करता है उसे सफलता मिलती है ।
  7. जो अभ्यास में लगा है, उसे सफलता प्राप्त होती है । भला अभ्यास किया बिना की सफलता कैसे प्राप्त हो सकती है, क्योंकि केवल योग की किताबें पढने से कभी सफलता नहीं मिल सकती ।
  8. योग में सफलता कोई वेश धारण करके नहीं मिल सकती । न ही कहानियाँ बता कर इसे प्राप्त किया जा सकता है । केवल अभ्यास ही इसमें सफलता का साधन है । यह सच है, इसमें कोई शक नहीं है ।
  9. आसन, कुम्भक और अन्य दैविक साधन, यह सभी का हठ योग में अभ्यास करना चाहिये जब तक राज योग का फल न प्राप्त हो जाये । यहीं पहले अध्याय का अन्त होता है जो मुख्य प्रकार से आसनों के ऊपर है ।

संबंधित कड़ियाँ[सम्पाद्यताम्]

  1. हठ योग प्रदीपिका
    1. हठ योग प्रदीपिका प्रथमोपदेशः
    2. हठ योग प्रदीपिका द्वितीयोपदेशः
    3. हठ योग प्रदीपिका तृतियोपदेशः
    4. हठ योग प्रदीपिका चतुर्थोपदेशः

बाहरी कडियाँ[सम्पाद्यताम्]