हठ योग प्रदीपिका द्वितीयोपदेशः

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search

मूल पाठ[सम्पाद्यताम्]

Original Text

द्वितीयोपदेशः

अथासने दृधे योगी वशी हित-मिताशनः।
गुरूपदिष्ट-मार्गेण प्राणायामान् समभ्यसेत्॥हयो-२.१॥
चले वाते चलं चित्तं निश्चले निश्चलं भवेत्।
योगी स्थाणुत्वम् आप्नोति ततो वायुं निरोधयेत्॥हयो-२.२॥
यावद् वायुः स्थितो देहे तावज् जीवनम् उच्यते।
मरणं तस्य निष्क्रान्तिस् ततो वायुं निरोधयेत्॥हयो-२.३॥
मलाकलासु नाडीषु मारुतो नैव मध्यगः।
कथं स्याद् उन्मनीभावः कार्य-सिद्धिः कथं भवेत्॥हयो-२.४॥
शुद्धम् एति यदा सर्वं नाडी-चक्रं मलाकुलम्।
तदैव जायते योगी प्राण-संग्रहणे क्षमः॥हयो-२.५॥
प्राणायामं ततः कुर्यान् नित्यं सात्त्विकया धिया।
यथा सुषुम्णा-नाडीस्था मलाः शुद्धिं प्रयान्ति च॥हयो-२.६॥
बद्ध-पद्मासनो योगी प्राणं चन्द्रेण पूरयेत्।
धारयित्वा यथा-शक्ति भूयः सूर्येण रेचयेत्॥हयो-२.७॥
प्राणं सूर्येण चाकृष्य पूरयेद् उदरं शनैः।
विधिवत् कुम्भकं कृत्वा पुनश् चन्द्रेण रेचयेत्॥हयो-२.८॥
येन त्यजेत् तेन पीत्वा धारयेद् अतिरोधतः।
रेचयेच् च ततोऽन्येन शनैर् एव न वेगतः॥हयो-२.९॥

प्राणं चेद् इडया पिबेन् नियमितं भूयोऽन्यथा रेचयेत् पीत्वा पिङ्गलया समीरणम् अथो बद्ध्वा त्यजेद् वामया।
सूर्य-चन्द्रमसोर् अनेन विधिनाभ्यासं सदा तन्वतां शुद्धा नाडि-गणा भवन्ति यमिनां मास-त्रयाद् ऊर्ध्वतः॥हयो-२.१०॥

प्रातर् मध्यन्दिने सायम् अर्ध-रात्रे च कुम्भकान्।
शनैर् अशीति-पर्यन्तं चतुर् वारं समभ्यसेत्॥हयो-२.११॥
कनीयसि भवेद् स्वेद कम्पो भवति मध्यमे।
उत्तमे स्थानम् आप्नोति ततो वायुं निबन्धयेत्॥हयो-२.१२॥
जलेन श्रम-जातेन गात्र-मर्दनम् आचरेत्।
दृढता लघुता चैव तेन गात्रस्य जायते॥हयो-२.१३॥
अभ्यास-काले प्रथमे शस्तं क्षीराज्य-भोजनम्।
ततोऽभ्यासे दृढीभूते न तादृङ्-नियम-ग्रहः॥हयो-२.१४॥
यथा सिंहो गजो व्याघ्रो भवेद् वश्यः शनैः शनैः।
तथैव सेवितो वायुर् अन्यथा हन्ति साधकम्॥हयो-२.१५॥
प्राणायामेन युक्तेन सर्व-रोग-क्षयो भवेत्।
अयुक्ताभ्यास-योगेन सर्व-रोग-समुद्गमः॥हयो-२.१६॥
हिक्का श्वासश् च कासश् च शिरः-कर्णाक्षि-वेदनाः।
भवन्ति विविधाः रोगाः पवनस्य प्रकोपतः॥हयो-२.१७॥
युक्तं युक्तं त्यजेद् वायुं युक्तं युक्तं च पूरयेत्।
युक्तं युक्तं च बध्नीयाद् एवं सिद्धिम् अवाप्नुयात्॥हयो-२.१८॥
यदा तु नाडी-शुद्धिः स्यात् तथा चिह्नानि बाह्यतः।
कायस्य कृशता कान्तिस् तदा जायते निश्चितम्॥हयो-२.१९॥
यथेष्टं धारणं वायोर् अनलस्य प्रदीपनम्।
नादाभिव्यक्तिर् आरोग्यं जायते नाडि-शोधनात्॥हयो-२.२०॥
मेद-श्लेष्माधिकः पूर्वं षट्-कर्माणि समाचरेत्।
अन्यस् तु नाचरेत् तानि दोषाणां समभावतः॥हयो-२.२१॥
धौतिर् बस्तिस् तथा नेतिस् त्राटकं नौलिकं तथा।
कपाल-भातिश् चैतानि षट्-कर्माणि प्रचक्षते॥हयो-२.२२॥
कर्म षट्कम् इदं गोप्यं घट-शोधन-कारकम्।
विचित्र-गुण-सन्धाय पूज्यते योगि-पुङ्गवैः॥हयो-२.२३॥

तत्र धौतिः- चतुर्-अङ्गुल-विस्तारं हस्त-पञ्च-दशायतम्।
गुरूपदिष्ट-मार्गेण सिक्तं वस्त्रं शनैर् ग्रसेत्।
पुनः प्रत्याहरेच् चैतद् उदितं धौति-कर्म तत्॥हयो-२.२४॥
कास-श्वास-प्लीह-कुष्ठं कफरोगाश् च विंशतिः।
धौति-कर्म-प्रभावेण प्रयान्त्य् एव न संशयः॥हयो-२.२५॥

अथ बस्तिः- नाभि-दघ्न-जले पायौ न्यस्त-नालोत्कटासनः।
आधाराकुञ्चनं कुर्यात् क्षालनं बस्ति-कर्म तत्॥हयो-२.२६॥
गुल्म-प्लीहोदरं चापि वात-पित्त-कफोद्भवाः।
बस्ति-कर्म-प्रभावेण क्षीयन्ते सकलामयाः॥हयो-२.२७॥
धान्त्वद्रियान्तः-करण-प्रसादं दधाच् च कान्तिं दहन-प्रदीप्तम्।
अशेष-दोषोपचयं निहन्याद् अभ्यस्यमानं जल-बस्ति-कर्म॥हयो-२.२८॥

अथ नेतिः- सूत्रं वितस्ति-सुस्निग्धं नासानाले प्रवेशयेत्।
मुखान् निर्गमयेच् चैषा नेतिः सिद्धैर् निगद्यते॥हयो-२.२९॥
कपाल-शोधिनी चैव दिव्य-दृष्टि-प्रदायिनी।
जत्रूर्ध्व-जात-रोगौघं नेतिर् आशु निहन्ति च॥हयो-२.३०॥

अथ त्राटकम्- निरीक्षेन् निश्चल-दृशा सूक्ष्म-लक्ष्यं समाहितः।
अश्रु-सम्पात-पर्यन्तम् आचार्यैस् त्राटकं स्मृतम्॥हयो-२.३१॥
मोचनं नेत्र-रोगाणां तन्दाद्रीणां कपाटकम्।
यत्नतस् त्राटकं गोप्यं यथा हाटक-पेटकम्॥हयो-२.३२॥

अथ नौलिः- अमन्दावर्त-वेगेन तुन्दं सव्यापसव्यतः।
नतांसो भ्रामयेद् एषा नौलिः सिद्धैः प्रशस्यते॥हयो-२.३३॥
मन्दाग्नि-सन्दीपन-पाचनादि-सन्धापिकानन्द-करी सदैव।
अशेष-दोष-मय-शोषणी च हठ-क्रिया मौलिर् इयं च नौलिः॥हयो-२.३४॥

अथ कपालभातिः- भस्त्रावल् लोह-कारस्य रेच-पूरौ ससम्भ्रमौ।
कपालभातिर् विख्याता कफ-दोष-विशोषणी॥हयो-२.३५॥

षट्-कर्म-निर्गत-स्थौल्य-कफ-दोष-मलादिकः।
प्राणायामं ततः कुर्याद् अनायासेन सिद्ध्यति॥हयो-२.३६॥
प्राणायामैर् एव सर्वे प्रशुष्यन्ति मला इति।
आचार्याणां तु केषांचिद् अन्यत् कर्म न संमतम्॥हयो-२.३७॥

अथ गज-करणी- उदर-गत-पदार्थम् उद्वमन्ति पवनम् अपानम् उदीर्य कण्ठ-नाले।
क्रम-परिचय-वश्य-नाडि-चक्रा गज-करणीति निगद्यते हठज्ञैः॥हयो-२.३८॥

ब्रह्मादयोऽपि त्रिदशाः पवनाभ्यास-तत्पराः।
अभूवन्न् अन्तक-भ्यात् तस्मात् पवनम् अभ्यसेत्॥हयो-२.३९॥
यावद् बद्धो मरुद् देहे यावच् चित्तं निराकुलम्।
यावद् दृष्टिर् भ्रुवोर् मध्ये तावत् काल-भयं कुतः॥हयो-२.४०॥
विधिवत् प्राण-संयामैर् नाडी-चक्रे विशोधिते।
सुषुम्णा-वदनं भित्त्वा सुखाद् विशति मारुतः॥हयो-२.४१॥

अथ मनोन्मनी- मारुते मध्य-संचारे मनः-स्थैर्यं प्रजायते।
यो मनः-सुस्थिरी-भावः सैवावस्था मनोन्मनी॥हयो-२.४२॥
तत्-सिद्धये विधानज्ञाश् चित्रान् कुर्वन्ति कुम्भकान्।
विचित्र कुम्भकाभ्यासाद् विचित्रां सिद्धिम् आप्नुयात्॥हयो-२.४३॥

अथ कुम्भक-भेदाः-- सूर्य-भेदनम् उज्जायी सीत्कारी शीतली तथा।
भस्त्रिका भ्रामरी मूर्च्छा प्लाविनीत्य् अष्ट-कुम्भकाः॥हयो-२.४४॥
पूरकान्ते तु कर्तव्यो बन्धो जालन्धराभिधः।
कुम्भकान्ते रेचकादौ कर्तव्यस् तूड्डियानकः॥हयो-२.४५॥
अधस्तात् कुञ्चनेनाशु कण्ठ-सङ्कोचने कृते।
मध्ये पश्चिम-तानेन स्यात् प्राणो ब्रह्म-नाडिगः॥हयो-२.४६॥
आपानम् ऊर्ध्वम् उत्थाप्य प्राणं कण्ठाद् अधो नयेत्।
योगी जरा-विमुक्तः सन् षोडशाब्द-वया भवेत्॥हयो-२.४७॥

अथ सूर्य-भेदनम्- आसने सुखदे योगी बद्ध्वा चैवासनं ततः।
दक्ष-नाड्या समाकृष्य बहिःस्थं पवनं शनैः॥हयो-२.४८॥
आकेशाद् आनखाग्राच् च निरोधावधि कुम्भयेत्।
ततः शनैः सव्य-नाड्या रेचयेत् पवनं शनैः॥हयो-२.४९॥
कपाल-शोधनं वात-दोष-घ्नं कृमि-दोष-हृत्।
पुनः पुनर् इदं कार्यं सूर्य-भेदनम् उत्तमम्॥हयो-२.५०॥

अथ उज्जायी- मुखं संयम्य नाडीभ्याम् आकृष्य पवनं शनैः।
यथा लगति कण्ठात् तु हृदयावधि स-स्वनम्॥हयो-२.५१॥
पूर्ववत् कुम्भयेत् प्राणं रेचयेद् इडया तथा।
श्लेष्म-दोष-हरं कण्ठे देहानल-विवर्धनम्॥हयो-२.५२॥
नाडी-जलोदराधातु-गत-दोष-विनाशनम्।
गच्छता तिष्ठता कार्यम् उज्जाय्य् आख्यं तु कुम्भकम्॥हयो-२.५३॥

अथ सीत्कारी- सीत्कां कुर्यात् तथा वक्त्रे घ्राणेनैव विजृम्भिकाम्।
एवम् अभ्यास-योगेन काम-देवो द्वितीयकः॥हयो-२.५४॥
योगिनी चक्र-संमान्यः सृष्टि-संहार-कारकः।
न क्षुधा न तृषा निद्रा नैवालस्यं प्रजायते॥हयो-२.५५॥
भवेत् सत्त्वं च देहस्य सर्वोपद्रव-वर्जितः।
अनेन विधिना सत्यं योगीन्द्रो भूमि-मण्डले॥हयो-२.५६॥

अथ शीतली- जिह्वया वायुम् आकृष्य पूर्ववत् कुम्भ-साधनम्।
शनकैर् घ्राण-रन्ध्राभ्यां रेचयेत् पवनं सुधीः॥हयो-२.५७॥
गुल्म-प्लीहादिकान् रोगान् ज्वरं पित्तं क्षुधां तृषाम्।
विषाणि शीतली नाम कुम्भिकेयं निहन्ति हि॥हयो-२.५८॥

अथ भस्त्रिका- ऊर्वोर् उपरि संस्थाप्य शुभे पाद-तले उभे।
पद्मासनं भवेद् एतत् सर्व-पाप-प्रणाशनम्॥हयो-२.५९॥
सम्यक् पद्मासनं बद्ध्वा सम-ग्रीवोदरः सुधीः।
मुखं संयम्य यत्नेन प्राणं घ्राणेन रेचयेत्॥हयो-२.६०॥
यथा लगति हृत्-कण्ठे कपालावधि स-स्वनम्।
वेगेन पूरयेच् चापि हृत्-पद्मावधि मारुतम्॥हयो-२.६१॥
पुनर् विरेचयेत् तद्वत् पूरयेच् च पुनः पुनः।
यथैव लोहकारेण भस्त्रा वेगेन चाल्यते॥हयो-२.६२॥
तथैव स्व-शरीर-स्थं चालयेत् पवनं धिया।
यदा श्रमो भवेद् देहे तदा सूर्येण पूरयेत्॥हयो-२.६३॥
यथोदरं भवेत् पूर्णम् अनिलेन तथा लघु।
धारयेन् नासिकां मध्या-तर्जनीभ्यां विना दृढम्॥हयो-२.६४॥
विधिवत् कुम्भकं कृत्वा रेचयेद् इडयानिलम्।
वात-पित्त-श्लेष्म-हरं शरीराग्नि-विवर्धनम्॥हयो-२.६५॥
कुण्डली बोधकं क्षिप्रं पवनं सुखदं हितम्।
ब्रह्म-नाडी-मुखे संस्थ-कफाद्य्-अर्गल-नाशनम्॥हयो-२.६६॥
सम्यग् गात्र-समुद्भूत-ग्रन्थि-त्रय-विभेदकम्।
विशेषेणैव कर्तव्यं भस्त्राख्यं कुम्भकं त्व् इदम्॥हयो-२.६७॥

अथ भ्रामरी- वेगाद् घोषं पूरकं भृङ्ग-नादं भृङ्गी-नादं रेचकं मन्द-मन्दम्।
योगीन्द्राणी̀अम् एवम् अभ्यास-योगाच् चित्ते जाता काचिद् आनन्द-लीला॥हयो-२.६८॥

अथ मूर्च्छा- पूरकान्ते गाढतरं बद्ध्वा जालन्धरं शनैः।
रेचयेन् मूर्च्छाख्येयं मनो-मूर्च्छा सुख-प्रदा॥हयो-२.६९॥

अथ प्लाविनी- अन्तः प्रवर्तितोदार-मारुतापूरितोदरः।
पयस्य् अगाधेऽपि सुखात् प्लवते पद्म-पत्रवत्॥हयो-२.७०॥

प्राणायामस् त्रिधा प्रोक्तो रेच-पूरक-कुम्भकैः।
सहितः केवलश् चेति कुम्भको द्विविधो मतः॥हयो-२.७१॥
यावत् केवल-सिद्धिः स्यात् सहितं तावद् अभ्यसेत्।
रेचकं पूरकं मुक्त्वा सुखं यद् वायु-धारणम्॥हयो-२.७२॥
प्राणायामोऽयम् इत्य् उक्तः स वै केवल-कुम्भकः।
कुम्भके केवले सिद्धे रेच-पूरक-वर्जिते॥हयो-२.७३॥
न तस्य दुर्लभं किंचित् त्रिषु लोकेषु विद्यते।
शक्तः केवल-कुम्भेन यथेष्टं वायु-धारणात्॥हयो-२.७४॥
राज-योग-पदं चापि लभते नात्र संशयः।
कुम्भकात् कुण्डली-बोधः कुण्डली-बोधतो भवेत्।
अनर्गला सुषुम्णा च हठ-सिद्धिश् च जायते॥हयो-२.७५॥
हठं विना राजयोगो राज-योगं विना हठः।
न सिध्यति ततो युग्मम् आनिष्पत्तेः समभ्यसेत्॥हयो-२.७६॥
कुम्भक-प्राण-रोधान्ते कुर्याच् चित्तं निराश्रयम्।
एवम् अभ्यास-योगेन राज-योग-पदं व्रजेत्॥हयो-२.७७॥

वपुः कृशत्वं वदने प्रसन्नता नाद-स्फुटत्वं नयने सुनिर्मले।
अरोगता बिन्दु-जयोऽग्नि-दीपनं नाडी-विशुद्धिर् हठ-सिद्धि-लक्षणम्॥हयो-२.७८॥

इति हठ-प्रदीपिकायां द्वितीयोपदेशः

हिन्दी अनुवाद[सम्पाद्यताम्]

Hindi Translation

पंकज चन्द गुप्ता के शब्दों में।

On Pranayama[सम्पाद्यताम्]

  1. आसन के में स्थिरता आ जाने पर, योगी को नियमित कम खाते हुये, प्राणायम का अभ्यास करना चाहिये।
  2. साँस के विचलित हो जाने पर मन भी आशान्त हो जाता है। साँस को नियमित कर, योगी मन की स्थिरता प्राप्त करता है।
  3. जब तक साँस शरीर में रहती है, उसे जीवित कहा जाता है। साँस का इस शरीर से निकल जाना ही मृत्यु होता है। इसलिये साँस को संयम करना जरूरी है।
  4. साँस अर्थात प्राण बीच वाली नाडी में नहीं जा पाते, क्योंकि वह नाडी खुली नहीं है। तो सफलता कैसे प्राप्त होगी और समाधि का आवस्था कैसे मिल पायेगी।
  5. जब सभी नाडियां जो अशुद्धता से भरी पडी हैं, शुद्ध हो जाती हैं, तो योगी प्राण वायु को वश में कर लेता है।
  6. इस लिये सात्विक बुद्धि से हर रोज प्राणायम करना चाहिये ताकि नाडियां शुद्ध हो पायें।

Methods of performing Pranayama[सम्पाद्यताम्]

  1. पद्मासन में बैठ कर योगी को अपनी दायीं नासिका से हवा भरनी चाहिये, और उसे अपने क्षमता के अनुसार अन्दर रोक कर, फिर धीरे से अपनी बायीं नासिका से छोडना चाहिये।
  2. फिर उलटा, बायें से अन्दर और दायें से बाहर – उसी प्रकार कुम्बक करना चाहिये।
  3. इस प्रकार एक से अन्दर लेकर, और अन्दर क्षमता अनुसार रोक कर, दूसरी नासिका से बाहर निकालना धीरे धीरे, जबर दस्ति नहीं।
  4. इस प्रकार, एक दूसरी नासिका द्वारा अभ्यास करते हुये, सभी की सभी 72000 नाडियां 3 महिनों में शुद्ध हो जाती हैं।
  5. इन कुम्भक को धीरे धीरे बढाते हुये दिन रात में चार बार करना चाहिये, जब तक एक बार की संख्या 80 न हो जाये और सारे दिन की संख्या 320 न हो जाये।
  6. शुरु में पसीना आता है, फिर बीच की stage में कम्पकपी होती है, और अन्त की स्थिति में स्थिरता प्राप्त हो जाती है। तब साँस को स्थिर, और हलचल रहित कर देना चाहिये।
  7. इस अभ्यास के परिश्रम से जो पसीना आये उसे अपने शरीर में ही मल लेना चाहिये क्योंकि एसा करने से शरीर मजबूत होता है।
  8. पहले के अभ्यास में दूध और घी युक्त आहार भरपूर होता है। जब साधना अच्छे से स्थिर हो जाये तो ऐसी कोई पाबंधी नहीं है।
  9. जैसे शेर, हाथी, चिते धिरे धिरे ही अपने वश में किये जाते हैं, उसी प्रकार साँस भी धीरे धीरे करते अपने वश में किया जाता है – इस में जल्दबाजी करना खतरनाख है।
  10. जब प्राणायम को अच्छे से किया जाता है तो वह सभी बिमारियों को मिटा देता है, लेकिन गलत अभ्यास बिमारिया उत्पन्न करता है।
  11. हिचकी आना, दम घुटना, खाँसी आना, सर या कानों या आँखों में दर्द आदि बिमारियाँ प्राण वायु के हिलने विचलित होने से ही उत्पन्न होती हैं।
  12. वायु को सही ढंग से ही निकालना चाहिये, और कोशलता से सही ढंग से भरना चाहिये, और जब उसे सही प्रकार से अन्दर रोका जाता है तो सफलता प्राप्त होती है।
  13. जब नाडियाँ शुद्ध हो जाती हैं, और बाहर भी उसके चिन्ह दिखने लगें, जैसे की पतला शरीर, चमकता रंग आदि तो सफलता प्राप्त हो रही है इस पर विश्वास करना चाहिये।
  14. अशुद्धता के मिट जाने पर, वायु को अपनी मरजी के अनुसार अन्दर रोका जा सकता है, भूख बढती है, दैविक ध्वनि जागति है और शरीर निरोग हो जाता है।
  15. अगर शरीर में ज्यादा मोटापा यां बलगम आदि हैं, तो छे प्रकार की क्रियायें करनी चाहिये पहले। लेकिन जिन्हें यह सब नहीं हैं, उन्हें यह नहीं करनी चाहिये।
  16. यह छ क्रियायें हैं धौती, बस्ती, नेति, नौलि, त्राटक, कपालभाति ।
  17. यह छे क्रियायें जिस से शरीर साफ होता है, गुप्त रखनी चाहिये। इन से बहुत अच्छे फायदे होते हैं और इन्हें उत्तम योगी गण बहुत ही इमानदारी से करते हैं।

The Dhauti[सम्पाद्यताम्]

  1. कपडे की पट्टी, 3 इन्च चौडी और 15 मीटर लम्बी, कोसे पानी से नमाई हुई, उसे धीरे धीरे निगला जाता है (एक सिरा बाहर रहता है) और फिर बाहर निकाला जाता है। इसे धौती कर्म कहते हैं।
  2. इस में कोई शक नहीं कि खाँसी, दम घुटना, आदि 20 प्रकार की बिमारियाँ धौती से ठीक हो जाती हैं।

The Basti[सम्पाद्यताम्]

  1. पेट तक पानी में बैठ कर, एक 6 इन्च लम्बी, आधा इन्च चौडी खोखली पाईप को, anus में डाला जाता है और फिर (anus को) सकोडा और बाहर का ओर निकाला जाता है। इस धोने की क्रिया को बस्ति कर्म कहते हैं।
  2. इसे करने से कई बिमारियां जो वायु, पित और कफ आदि के विकारों से उत्पन्न होती हैं, ठीक हो जाती हैं।
  3. पानी में बस्ति करने से, शरीर के धातु, इन्द्रियां, मन शान्त रहते हैं। इस से शरीर में चमक आने लगती है और भूख बढती हैं, और सभी विकार आदि मिट जाते हैं।

The Neti[सम्पाद्यताम्]

  1. धागें से बनी एक रस्सि, 6 इन्च लम्बी, नाक द्वारा डाल कर, मूँह से निकाली जाती है। इसे योग ज्ञाता नेती क्रिया कहते हैं।
  2. इससे दिमाग शुद्ध होता है और दैविक दृष्टि मिलती है। इस से मूँह औऱ खोपडी के हिस्से के रोग दूर होते हैं।

The Tratika[सम्पाद्यताम्]

  1. शान्त हो कर, एक ही निशान पर एकटक देखते रहना, जब तक आँखों में पानी न आ जाये। इसे आचार्य गण तराटक कहते हैं।
  2. इससे आँखों के रोग दूर होते हैं, और आलस मिटता है। इसे बहुत गुप्त रखना चाहिये जैसे गहनों की डब्बा।

The Nauli[सम्पाद्यताम्]

  1. अपने पैरों के बल, ऐडीयों को उठा कर बैठ कर, हाथों के तलों को धरती पर रखे हुये। इस प्रकार झुके हुये, अपने पेट को जबरदस्ती दायें से बायें तक लेजाना, जैसे उल्टी कर रहे हों। इसे नौली कर्म कहा जाता है।
  2. इस से dyspepsia ठीक होता है, भूख लगती है, हाजमा ठीक होता है। यह लक्ष्मी की ही तरह सभी प्रसन्नता देता है और सभी विकारों को सुखा देता है। हठ योग में यह बहुत ही उत्तम क्रिया है।

The Kapala Bhati[सम्पाद्यताम्]

  1. जब साँस लेना और निकालना बहुत जल्दि जल्दि किये जायें, तो वह बलगम के सभी विकारों को मिटा देता है। इसे कपाल भाती कहा जाता है।
  2. इस प्रकार जब इन छे क्रियाओं द्वारा शरीर को बलगम आदि से उत्पन्न मोटापे आदि से मुक्त करने के बाद प्राणायम किया जाता है तो आसानी से सफलता प्राप्त होती है।
  3. कुछ आचार्य प्राणायम के अतिरिक्त और किसी क्रिया नहीं बताते क्योंकि वे मानते हैं कि सभी अशुद्धियां प्राणायम द्वारा ही सूख जाती हैं।

Gaja Karani[सम्पाद्यताम्]

  1. अपान वायु को गले तक लाकर, उल्टि की जा सकती है। धीरे धीरे इस से नाडियों का ज्ञान होता है। इसे गज करनी कहा जाता है।
  2. ब्रह्मा आदि देव सदा प्राणायाम में लगे हैं, और इसके द्वारा मृत्यु के भय से मुक्त होते हैं। इसलिये, सदा प्राणायम का अभ्यास करना चाहिये।
  3. जब तक शरीर में साँस को रोका हुआ है, मन हलचल रहित है, और दृष्टि आँखों के बाच में स्थित है – तब तक मृत्यु का कोई भय नहीं है।
  4. जब सभी नाडियां प्राण को भली भाँति काबू में कर लेने से शुद्ध हो जाती हैं, तो प्राण वायु सुसुम्ना नाडी के द्वार को आसानी से भेद कर उस में प्रवेश कर जाता है।

Manomani[सम्पाद्यताम्]

  1. जब वायु बाच वाली नाडी में आसानी से चलती है, तो मन स्थिर हो जाता है। इस स्थिति को मनोमनि कहते हैं जो तब प्राप्त होती है जब मन शान्त हो जाता है।
  2. इसे प्राप्त करने के लिये विभिन्न कुम्भक किये जाते हैं उनको द्वारा जो योग में प्रवीण हैं, क्योंकि कुम्भक के अभ्यास से ही विशिष्ट सफलता प्राप्त होती है।

विभिन्न प्रकार के कुम्भक[सम्पाद्यताम्]

  1. कुम्भक आठ प्रकार के होते हैं - सूर्य भेदन, उज़्जायी, सीत्कारी, शीतली, भस्त्रिका, भ्रामरी, मूर्च्छा और प्लाविनि।
  2. पूरक के अन्त में जालन्धर बन्ध करना चाहिये, और कुम्भक के अन्त में और रेचक के शुरु में उड्डीयान बन्ध नहीं करना चाहिये। (पूरक कहते हैं बाहर से भीतर हवा भरने को - अन्दर साँस लेने को)।
  3. कुम्भक कहते हैं साँस को अन्दर रोक कर रखने को (हवा को अन्दर बंद कर के रखना)। रेचक साँस को बाहर छोडने को कहते हैं। पूरक, कुम्भक और रेचक की जानकारी सही जगह दी जायेगी और इसे ध्यान से समझना और लागू करना चाहिये। अपने नीचे के भाग को ऊपर की ओर खींच कर (मूल बन्ध) और अपनी गर्दन को अन्दर की ओर खींच कर (ठोडी को छाती से लगा कर - जल्नधर बन्ध) और अपने पेट को अन्दर की ओर खींच कर - यह करने पर प्राण ब्रह्म नाडी (सुशुम्न) की तरफ बढता है (उसमें प्रवेश करने की चेष्टा करता है)। (बीच वाली नाडी को योगी जन सुशुम्न कहते हैं। उस के साथ में दो अन्य जो नाडियां होती हैं जो रीड की हडडी के साथ चलती हैं उन्हें ईद और पिंग नाडीयाँ कहा जाता है।)
  4. अपान वायु को ऊपर को खींच कर और प्राण वायु को गर्दन में से होती नीचे की ओर धकेल कर योगी जरा से मुक्त हो ऐसे यौवन अवस्था को प्राप्त कर लेता है मानो सोलंह साल का हो। (प्राण का स्थान हृदय है औऱ अपान का स्थान anus है। समान का स्थान पेट है, उदान का गला स्थान है और व्यान का स्थान सारा शरीर है - यह पाँच पॅकार की वायु हैं जो मनुष्य को जीवित रखती हैं।)

सूर्य भेदन[सम्पाद्यताम्]

  1. किसी भी आरामदायक आसन को ग्रहण कर के बैठें। फिर वायु को धीरे धीरे right नासिका से अन्दर लें।
  2. फिर उस वायु को अन्दर रोक कर रखें, ताकी वह नाखूनों से ले कर बालें तक सारे शरीर को भर दे और फिर धीरे धीरे उसे दूसरी (left) नासिका से बाहर निकालें। (इसे एक के बाद एक करना है। जिस नासिका से अन्दर लें, दूसरी से निकालें और फिर उस दूसरी से अन्दर लें औऱ पहली वाली से निकालें।)
  3. इस उत्तम सूर्य भेदन से माथा साफ होता है, वत के रोग दूर होते हैं, कीडे खत्म होते हैं इसे बार बार करना चाहिये।
  4. मैं इस योग अभ्यास का वर्णन करता हूँ ताकी योगी जन सफल हों। बुद्धिमान मनुष्य को सुबह जल्दि उठना चाहिये (चार बजे सुबह)
  5. फिर अपने गुरु को अपने सिर से नमस्कार कर, और अपने देव को अपने मन में याद कर, साफ सफाई आदि क्रम से मुक्त हो, अपना मूँह साफ कर, फिर अपने शरीर पर भस्म लगानी चाहिये।
  6. एक साफ स्थान पर, साफ कमरा या फिर मनोहर जमीन पर उसे नरम आसन बिछा कर उस पर बैठना चाहिये और अपने मन में अपने गुरु और अपने देव अथवा देवी को याद करना चाहिये।
  7. अपने आसन स्थान की प्रशसा कर, यह प्रण लेना चाहिये की भगवान की कृपा से आज मैं समाधि प्राप्त करने के लिये प्राणायम करूँगा। उसे भगवान शिवजी को प्रणाम करना चाहिये ताकी उसे अपने आसन और योग में सफलता प्राप्त हो।
  8. नागों के भगवान, हजारों सिरों वाले भगवान शिवजी को प्रणाम है, जो अद्भुत मणियों से सुशोभित हैं और जिन्होंने इस संपूर्ण संसार को संभाला हुआ है, उसका पालन करते हैं, अनन्त हैं। इस प्रकार भगवान शिव जी की पूजा कर उसे आसन का अभ्यास करना आरम्भ करना चाहिये, और जब थकावट हो जाये तो शव आसन का अभ्यास करना चाहिये। अगर थकावट न हो तो शव आसन न करे।
  9. कुम्भक शुरु करने से पहले विपरीत करनी मुद्रा करनी चाहिये, ताकी वह जल्नधर बन्ध को आसानी से कर पाये।
  10. थोडा से जल पी कर उसे प्राणायम का अभ्यास आरम्भ करना चाहिये, योगिन्दों को नमस्कार कर के, जैसा की भगवान शिव जी नें कुर्म पुराण में बताया है।
  11. जैसे भगवान शिव नें कहा है की योगिन्द्रों के नमस्कार कर के, और उन के शिष्यों को, औऱ गुरु विनायक को नमस्कार कर के, फिर योगी को शान्त मन से मुझ में एक हो जाना चाहिये।
  12. अभ्यास करते समय असे सिद्धासन में बैठना चाहिये, और फिर बन्ध और कुम्भक करना आरम्भ करना चाहिये। पहले दिन उसे 10 कुम्भकों से शुरु करना चाहिये और हर रोज 6 बढा देने चाहिये।
  13. शान्त मन से 80 कुम्भक एक बार में करने चाहिये - पहले चन्द्र नासिका (left nostril) से शुरु करते हुये और उसके बाद सूर्य (right) नासिका से।
  14. बुद्धिमान लोगों ने इसे अनुलोम विलोम कहा है। इस सूर्य भेदन का अभ्यास करते हुये, साथ में बन्धों के, बुद्धिमान मनुष्य को उज्जई और फिर सीतकरी सीतली और भस्त्रिका करने चाहिये, दूसरे प्रकार के कुम्भक चाहे वह न करे।
  15. उसे मुद्राओं का ठीक से अभ्यास करना चाहिये जैसे उसके गुरु ने बताया हो। फिर पद्मासन में बैठ कर उसे अनहत नाद को ध्यान से सुनना चाहिये।
  16. जो भी वह कर रहा है, उस के फल को उसे भक्तिपूर्वक भगवान पर छोड देना चाहिये। इस अभ्यास के समाप्त होने पर उसे गरम पानी से स्नान करना चाहिये।
  17. इस स्नान के बाद दिन के कार्य कुछ देर के लिये रुक जाने चाहिये। दोपहर को भी अभ्यास के बार थोडा आराम करना चाहिये और फिर खाना खाना चाहिये।
  18. योगीजन को सदा स्वस्थ भोजन करना चाहिये, कभी अस्वस्थ करने वाला नहीं। रात के खाने के बार उसे Ilachi or lavanga लेना चाहिये।
  19. कईयों को कपूर और पान का पत्ता पसंद है। योगीयों को प्राणायम करने के पश्चात पान का पत्ता बिना किसी औऱ चीजों के (जैसे कथा आदि) अच्छा है।
  20. खाना खाने के बार उसे अध्यात्मिक पुसतकें पढनी चाहिये, या पुराण सुनना चाहिये या भगवान का नाम लेना चाहिये।
  21. शाम में उसे पहले की ही भाँती अभ्यास करना चाहिये। सूर्य के अस्त होने के एक घंटा पहले अभ्यास शुरु करना चाहिये।
  22. फिर शाम की संध्या उसे अभ्यास करने के पश्चात करनी चाहिये। अर्ध रात्रि में सदा हठ योग का अभ्यास करना चाहिये।
  23. विपरीत करनी शाम में और रात में करनी अच्छी है लेकिन खाने के बिल्कुल बाद नहीं क्योंकि वरना उस से लाभ नहीं होता।

उज्जयी[सम्पाद्यताम्]

  1. गले की नाडी का मूँह बंद कर के (ठोडी को पीछे की ओर लगा कर), वायु को इस प्रकार से अन्दर लेना चाहिये जिस से वह गले को छूती हुई, आवाज करती छाती तक पहुँचे।
  2. उसे पहले की तरह अन्दर रोक कर रखना चाहिये, और फिर left nostril से बाहर निकालना चाहिये। इस से गले की बलगम कम होती है और भूख बढती है।
  3. इस से नाडीयों के रोग खत्म होते हैं, और dropsy औऱ धातु के रोग मिटते हैं। उज्जयी जीवन की हर अवस्था में करना चाहिये, चलते हुये भी और बैठे हुये भी।

सीतकरी[सम्पाद्यताम्]

  1. सीतकरी मूँह द्वारा साँस अन्दर लेने से की जाती है, जीहवा (tounge) को होठों (lips) के बीच में रख कर। इस प्रकार अन्दर ली गई वायु को फिर मूँह से बाहर नहीं निकालना चाहिये। इस अभ्यास से, मनुष्य कामदेक के समान हो जाता है।
  2. वह योगीयों द्वारा सम्मानित होता है और सृष्टि के चक्र से मुक्त होता है। उस योगी को न भूख, न प्यास और न ही निद्रा और आलस सताते हैं।
  3. उसके शरीर का सत्त्व सभी प्रकार की हलचल से मुक्त हो जाता है। सत्य में वह इस संसार में जितने भी योगी हैं उन में अग्रणीय हो जाता है।

सीतली[सम्पाद्यताम्]

  1. जैसे सीतकरी में जीहवा मूँह से जरा बाहर की ओर निकाली जाती है, उसी प्रकार इस में भी किया जाता है। वायु को फिर मूँह से अन्दर ले कर, अन्दर रोक कर और फिर नासिकाओं से निकाला जाता है।
  2. इस सीतली कुम्भक से colic, (enlarged) spleen, fever, disorders of bile, hunger, thirst आदि का अन्त होता है और यह जहर को काटता है।

भस्त्रिका[सम्पाद्यताम्]

  1. पद्म आसन कहते हैं अपने पैरों को cross कर के अपने thighs पर रखना। इस से सभी पापों का अन्त होता है।
  2. पद्मासन में बैठ कर और अपने शरीर को सीधा रख कर, मूँह को ध्यान से बंद कर, वायु को नाक से निकालें।
  3. वायु को फिर अपन हृदय कमल (छाती) में भरे, वायु को शक्ति से अन्दर खींचते हुये, आवाज करते और गले, छाती और सिर को छूते।
  4. फिर उसे बाहर निकाल कर, दोबारा दोबारा उसी प्रकार भरें, जैसे लौहार हवा मारता है।
  5. इस तरह शरीर की वायु को बुद्धि से ध्यान से चलाना चाहिये, उसे सूर्य से भरकर जब भी थकावट लगे।
  6. वायु को right nostril से भरना चाहिये अपने अंगूठे को दूसरी नासिका के साथ दबा कर ताकि left नासिका बंद हो। फिर पूर भर कर उसे चौथी उंगली (नन्ही उंगली के साथ वाली) से अपनी right नासिका बंद कर कर अन्दर रखना चाहिये।
  7. इस प्रकार अच्छे से अन्दर रोक कर, फिर उसे left नासिका से निकालना चाहिये। इस से Vata, पित्त (bile) और बलगम खत्म होते हैं और पाचन शक्ति बढती है।
  8. इस से कुण्डली जल्दि ही जाग उठती है, शरीर और नाडियाँ पवित्र होती हैं, आनन्द प्राप्त होता है और भला होता है। इस से बलगम दूर होती है और ब्रह्म नाडी के मुख पर एकत्रित अशुद्धता दूर होती है।
  9. इस बस्त्रिका को खूब करना चाहिये क्योंकि इस से तीनो गाँठें खुलती हैं - ब्रह्म गन्ठी (छाती में), विष्णु गन्ठी (गले में) और रुद्र गन्ठी (eyebrows के बीच में)।

भ्रमरी[सम्पाद्यताम्]

  1. वायु को शक्ति भ्रिंगी (wasp) की आवाज करते हुये भर कर, और फिर उसे वही आवाज करते हुये धीरे धीरे निकालें। यह अभ्यास योगिन्द्रों को अद्भुत आनन्द देता है।

मूर्छा[सम्पाद्यताम्]

  1. पूरक (अन्दर साँस लेने) के अन्त में, साँस लेने वाली नाडी को जल्न्धर बन्ध द्वारा अच्छे से बंद करना, और फिर वायु को धीरे धीरे निकालना, इसे मूर्छा कहा जाता है, क्योंकि इस से मन का वेग शान्त होता है और सुख मिलता है।

प्लविनी (किशती के समान)[सम्पाद्यताम्]

  1. चब पेट में हवा भरी जाती है और शरीर में भरपूर पूरी तरह से हवा भर ली जाये, तो गहरे से गहरे पानी में भी शरीर कमल के पत्ते की तरह तैरने लगता है।
  2. पूरक (अन्दर लेना), रेचक (बाहर छोडना) और कुम्भक (अन्दर रोकना) - इस तरह से देखा जाये तो प्राणायम तीन भागों में विभक्त है। लेकिन अगर इसे पूरक और रेचन के साथ, और इन के बिना - इस प्रकार देखा जाये तो यह दो ही प्रकार का है - सहित (पूरक और रेचन के साथ) और केवल (केवल कुम्भक)।
  3. सहित का अभ्यास तब तक करते रहना चाहिये जब तक केवल प्राप्त न हो जाये। केवल का अर्थ है वायु को अन्दर रखना बिना किसी मुश्किल के, बिना साँस लिये या निकाले।
  4. केवल प्राणायम के अभ्यास में, जब उसे ठीक प्रकार से रेचक और पूरक के बिना किया जा सके तो उसे केवल कुम्भक कहते हैं।
  5. उस के लिये इस संसार में कुछ भी प्राप्त करना कठिन नहीं है, जो अपनी इच्छा अनुसार वायु को अन्दर रोक कर रख सकता है केवल कुम्भक के माध्यम से।
  6. उसे असंशय रूप से राज योग प्राप्त हो जाती है। उस कुम्भक द्वारा कुण्डली जागरित होती है और उसके जागरित होने से सुशुम्न नाडी (बीच की नाडी) अशुद्धता मुक्त हो जाती है।
  7. राज योग में हठ योग के बिना कोई सफलता नहीं मिल सकती, और हठ योग में राज योग के बिना कोई सफलता नहीं है। इसलिये, मनुष्य को इन दोनो का ही जम कर अभ्यास करना चाहिये जब तक पूर्ण सिद्धि न प्राप्त हो जाये।
  8. कुम्भक के अन्त में मन को आराम देना चाहिये। इस प्रकार अभ्यास करने से मनुष्य राज योग की पद को प्राप्त कर लेता है।

हठ योग के पथ में सिद्धि के लक्षण[सम्पाद्यताम्]

  1. जब शरीर पतला हो जाये, मुख आनन्द से उज्वल हो जाये, अनहत नाद उत्पन्न हो, आँखें साफ हो जायें, शरीर निरोग हो जाये, बिंदु पर काबु हो जाये, भूख बढ जाये - तब योगी को जानना चाहिये की नाडीयाँ स्वच्छ हो गईं हैं और हठ योग में सिद्धि निकट आ रही है।

संबंधित कड़ियाँ[सम्पाद्यताम्]

  1. हठ योग प्रदीपिका
    1. हठ योग प्रदीपिका प्रथमोपदेशः
    2. हठ योग प्रदीपिका द्वितीयोपदेशः
    3. हठ योग प्रदीपिका तृतियोपदेशः
    4. हठ योग प्रदीपिका चतुर्थोपदेशः

बाहरी कडियाँ[सम्पाद्यताम्]