पृष्ठम्:भोजप्रबन्धः (विद्योतिनीव्याख्योपेतः).djvu/१७२

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति
left
१६६
भोजप्रवन्धः


॥ च तन्मुखश्रिया भोज मत्वा तत्पिपासां च ज्ञात्वा तन्मुखावलोकन शाच्छन्दोरूपेणाह-

हिमकुन्दशशिप्रभशखनिभं परिपक्वकपित्थसुगन्धरसम् ।
युवताकर पल्लवनिर्मथितं पिव है नृपराज रुजापहरम्' ॥३२५।। इति ।

 उसके मुख की कांति से उसने उसे भोज मानकर और उसकी प्यास को जानकर उसके मुख को देखने के लिए छंद रूप में कहा-

बर्फ कुंद, चंदा और शंख के समान श्वेत,
पके हुए कैथ का सुगंधित जैसे रत है,
युवती के कोमल कर-किसलय से मथा हुआ
पान करें राज-राज, सर्वरोगहर है।

 राजा तच तक पीत्वा तुष्टस्तां प्राह--'सुभ्र :; किं तवाभीष्टम्' इति । च किचिदाविष्कृतयौवना मदपरवशमोहाकुलनयना प्राह-'देव, कन्यामेवावेहि ।'

 वह मीठा पीकर संतुष्ट हो राजा ने उससे कहा--'हे सुंदर भ्रकुटी , तुम्हारी क्या कामना है ?' जिसका यौवन कुछ-कुछ प्रकट हो धा, ऐसी वह मद के परवश हो चंचल नेत्रों से मोह प्रकट करती हुई -'महाराज, मुझे कुमारी कन्या ही समझें।

सा पुनराह-

'इन्, कैरविणीव कोकपटलीवाम्भोजिनीवल्लभं .
मेघं चातकमण्डलीच मधुपश्रेणीव पुष्पव्रजम् ।
माकन्दं पिकसुन्दरीव रमणीवात्मेश्वरं प्रोषित
चेतोवृत्तिरियं सदा नृपवर त्वां द्रष्दुमुत्कण्ठते' ॥३१६।।


यथा कुमुदिनी शशि को चाहे, सूरज.को मंडल चकवों का,
झुड पपीहों का बादल को, फूलों को समूह भ्रमरों का,
आमों को कोयलिया, विछड़ा अपना पति रमणी को वांछित,
मनोवृत्ति यह सदा नपतिवर, तुम्हें देखने को उत्कंठित ।

 राजासत्कृतः माह-संकुमारि, त्वां लीलादेव्या अनुमत्यास्वीकुमः।' इति धारानगरं तीत्वा ता तथैव स्वीकृतवान् ।