पृष्ठम्:भोजप्रबन्धः (विद्योतिनीव्याख्योपेतः).djvu/१६७

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति
भोजप्रबन्धः


 तो वह राक्षस चारों ही पहरों में अपना मनचीता भाव जानकर संतुष्ट हुआ और प्रभात काल में आकर कालिदास का आलिंगन करके.बोला--'है सुबुद्धि शाली, मैं संतुष्ट हूँ। तुम्हारा - अभीष्ट क्या है ?' कालिदास ने कहा- 'भगवन्, इस घर को छोड़कर और स्थान पर चले जाइए।' वह भी 'ठीक' है, यह कह चला गया। इसके बाद संतुष्ट भोज ने कवि का बहुत संमान किया।

(२८ ) मल्लिनाथस्य दारिद्र्यनिवारणम्

 एकदा सिंहासनमलकुर्वाणे श्रीभोजे सकलभूपालशिरोमणी द्वार- पाल आगत्य प्राह–'देव, दक्षिणदेशारकोऽपि मल्लिनाथनामा कविः कौपीनावशेषो द्वारि वर्तते । राजा-'प्रवेशय' इत्याह ।

 एक वार समस्त पृथ्वी-पतियों के शिर की मणि के समान (श्रष्ठ ) श्री भोज के सिंहासन को सुशोभित करने पर द्वारपाल आकर बोला--'महाराज, दक्षिण देश से आया कोई कोपीन, मात्र धारी मल्लिनाथ नामक कवि द्वार पर उपस्थित है।' राजा ने कहा--'प्रवेश दो।'

ततः कविरागत्य 'स्वस्ति' इत्युक्त्वा तदाज्ञया चोपविष्टः पठति ---
'नागो भाति मदेन खं जलधरैः पूर्णेन्दुना शवरी .
शीलेन प्रमदा जवेन तुरगो नित्योत्सबमन्दिरम् ।
वाणी व्याकरणेन हंसमिथुनैनद्यः सभा पण्डितः
सत्पुत्रेण कुलं त्वया वसुमती लोकत्रयं भानुना' ॥३०।।

 तव कवि ने आकर 'कल्याण हो' कहा और राजा की आज्ञा से वेठ कर पढ़ा--

 मद से हाथी शोमित होता है, आकाश जलधर बादलों से, रात्रि पूर्ण चंद्र से, नारी शील से, घोडा वेग से, मंदिर प्रतिदिन के उत्सवों से, वाणी व्याकरण से, नदियाँ हंसों के जोड़ों से, समा पंडितों से, कुल सपूत से, घरता आपसे और तीनों लोक सूर्य से शोभित होते है। . . . । ततो राजा.प्राह--'विद्वन् , तवोद्देश्यं किम्' इति । .. .

 तब राजा ने कहा---'हे विद्वान्, तुम्हारा उद्देश्य क्या है ?', ":