पृष्ठम्:भोजप्रबन्धः (विद्योतिनीव्याख्योपेतः).djvu/१५४

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति
१५१
भोजप्रबन्धः


 जब हवा वहने की बात तक नहीं थी, ऐसे समय में भी बढ़ाया ही। भवभूतिराह-

'उरगी शिशवे बुभुक्षवे स्वामदिशरफूस्कृतिमाननानिलेन ।
मरुदागमवार्तयापि शून्ये समये जाग्रति सम्प्रवृद्ध एवं ॥ २६३ ॥
राजा प्राह-'भवभूते, लोकोक्तिः सम्यगुक्ता' इति ।

 भवभूति ने कहा--

 नागिन ने भूखे बच्चे को मुंह की श्वास-वायु से अपनी फुकारी दी । जव हवा वहने की बात तक नहीं थी, ऐसे समय में भी बढ़ाया ही। ( अर्थात् वायु-पान कराके अपने बच्चे का पालन-पोपण किया ) । राजाने कहा---'हे भवभूति, आपने अच्छी लोकोक्ति कही।'

 ततोऽपाङ्गेन राजा कालिदासं पश्यति । ततः स आह-

'अवलासु विलासिनोऽन्वभूवन्नयनरेव नवोपगृहनानि ।
मरुदागमवातेयापि शून्ये समये जाग्रति सम्प्रवृद्ध एवं' ।। २६४ ॥

 तदाराजा स्वाभिप्रायं ज्ञात्वा तुष्टः कालिदासं विशेषेण सम्मानितवान् ।

 तव फिर राजा ने कनखी से कालिदास को संकेत दिया । तो उसने कहा-- विलासी व्यक्तियों ने नेत्रों से ही नारियों में नवीन आलिंगन का अनुभव किया । जब हवा बहने की बात तक नहीं थी, ऐसे समय में भी बढ़ाया ही। ( अर्थात् आनंद वृद्धि की ।)

 तो राजा अपना अभिप्राय समझ कर संतुष्ट हुआ और कालिदास को विशेप रूप से संमानित किया।

 अन्यदा मृगयापरवशो राजात्यन्तमातः कस्यचित्सरोवरस्य तोरे निविडच्छायस्य जम्बूवृक्षस्य मूलमुपाविशत् । तत्र शयाने राज्ञि जम्बो- परिवहमिः कपिभिजेम्बूफलानि सर्वाण्याप चालितानि । तानि सशब्दं पतितानि पश्यन्यटिकामानं स्थित्वा श्रमं परिहत्य उत्थाय तुरङ्गमवर- मारुह्य गतः।

 एक और वार आखेट में लीन हो राजा अत्यंत थक कर किसी तालाव के किनारे घनी छायादार जामुन के पेड़ के नीचे बैठा था। वहाँ लेटे राजा पर जामुन के ऊपर के बहुत-से बंदरों ने सभी जामुनें झाड़ डाली । एक घड़ी