पृष्ठम्:भोजप्रबन्धः (विद्योतिनीव्याख्योपेतः).djvu/१४८

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति
१४५
भोजप्रवन्धः


जाओ-जाओ मेरे प्राणो, याचक खाली हाथ गये;
- फिर पीछे भी जाना होगा, तब क्या होगा व्यर्थ गये ?
इस प्रकार विलाप करते-करते माघ पंडित परलोक गये ।

ततो माघपत्नी स्वामिनि परलोकं गते सति प्राह--
'सेवन्ते स्म गृहं यस्य दासबझूभुजः सदा ।
स स्वभार्यासहायोऽयं म्रियते माघपण्डितः ॥ २८४ ॥

 तव स्वामी के परलोक जाने पर माघ पत्नी ने कहा-- जिनके घर सदा राजागण दास के समान सेवा करते थे, वे माघ पंडित केवल पत्नी को सहायिका रूप में प्राप्त कर मृत्यु को प्राप्त हो

 ततो राजा मापं विपन्न ज्ञात्वा निजनगराद्विप्रशतावृतो मौनी रात्रा- वेव तत्रागात् । ततो माधपत्नी राजानं वीक्ष्य प्राह-'राजन्, यतः पण्डि- तवरस्त्वदेशं प्रातः परलोकमगात् , ततोऽस्य कृत्यशेपं सम्यगाराधनीयं भवता' इति । ततो राजा माघं विपन्न नर्मदातीरं नीत्वा यथोक्त न वि- धिना संस्कारमकरोत् । तत्र च माधपत्नी वह्नौ प्रविष्टा । तयोश्च पुत्रवत्सर्व चक्र भोजः ।

 तो माघ को विपद्-प्रस्त ( मृत ) जानकर सी ब्राह्मणों के साथ मौन धारण किये राजा अपने नगर से रात में ही वहाँ पहुँचा। तो माघ की पत्नी ने राजा को देखकर कहा--'हे राजा. क्योंकि पंडितवर ( माघ ) आपके देश में आकर ही परलोक सिधारे, सो इनका शेप कर्म आपको ही भली भांति करना चाहिए।' सो राजा ने मृत माघ को नर्मदा के किनारे ले जाकर शास्त्रोक्त विधि के अनुसार संस्कार किया। तदनंतर माघ की पत्नी भी अग्नि में प्रविष्ट हो गयीं। उन दोनों के सव संस्कार पुत्र की भांति भोज ने किये !

 ततो मावे दिवं गते राजा शोकाकुलो विशेपेण कालिदासवियोगेन च पण्डितानां प्रवासेन कृशोऽभूदिने दिने वहुलपक्षशशीव । ततोऽमात्यै- मिलित्वा चिन्तितम्-'वल्लालदेशे कालिदासो वसति । तस्मिन्नांगते

 १० भोज०