पृष्ठम्:ब्राह्मस्फुटसिद्धान्तः (भागः ४).djvu/१४१

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति


१२३१ ब्राम्हास्फुटसिद्धान्ते

                            उपपति।
        ५५ सुत्र कि उपपति में रवि भगरगांश == चभा  रविभ == र, उसी विधि से 
        
        यं शशेष == र , य ‌-- द्र्ककु , क = न, तव प्रश्नोक्ति से ७०दृककु - यंशश/१००००
 
        ७० दृककु - रा। य+दृककु, क/१०००० = ७०दृककु - न/१०००० यह निशोष हौ तब  
        कुट्टक से रऋरग भाज्य विधि से न मान ग्नान सुगम ही हौ इति ॥५६॥
                     भनेकवरर्गसमीकररगबीज समाप्त हुश्ऱा।

»