पृष्ठम्:ब्राह्मस्फुटसिद्धान्तः (भागः ४).djvu/४७८

विकिस्रोतः तः
Jump to navigation Jump to search
एतत् पृष्ठम् अपरिष्कृतम् अस्ति


ध्यानग्रहोपदेशाध्यायः १५६७ १+ १+


--- ११ १ १+ २+ १९११५९३६ ५३२८३१५२४ अत आसन्नमानानि + . ३ * *Madhava char n (सम्भाषणम्)। ५=३३-५=३+३-+३*२ २४१२ इदमाचार्येण गृहीतम् । ततो जातं सितचलम् = र (३+३)= र+३ र २४१२ २ ९ २ य'अत उपपन्न सितचलानयनम् । शेषवासना स्फुटा ॥ ३६ ॥ अब शुक्र तथा अन्य ग्रहों का चलघ्वानय करते हैं । हि. भा. रविः को तीन से गुण हैं, उसका आधा करें उसमें त्रिगुणित रविं का धारहवां भाग जोड़ने से शुक्र का शैलोच्च होता है । अन्य ग्रह (भौम-गुरुशनि) का रवि ही तात्कालिक चल शीनोम होता है । रवि ही मध्यम शुक्र और भौम होता है । उपपत्ति । पूर्वयुक्ति से शुशीभ = ७०२२३८६४६२ रभ ४३२०००१००० १+ • • • १+ १+ १+ १११५६३६ २+ ५३२८३१५२४ इससे आसन्नमान" =है, ३, ३, ४, ६,०००००००